Indian Railway में सफर के महत्वपूर्ण नियम (2022)

प्रणाम दोस्तों, आज हम चर्चा करेंगे Indian Railway के उन नियमों की जिसके ना पता होने से अक्सर ट्रेनों मे सभ्य मनुष्य भी शराफ़त छोड़ कर आपस मे झगड़ा करने लगते है।  और कुछ लोग जुर्माना या जेल की सजा भी भुगतते है। तो चलिए जानते है Indian Railway Travel rules Hindi 2022 के बारे में।

Indian-Railway-rules-and-act

भारतीय रेलवे के महत्वपूर्ण नियम : Railway travel guidelines 2022

दोस्तों भारतीय रेल डिपार्टमेंट समय अनुसार अपने नियमों मे कुछ बदलाव करते रहता है। Indian Railway new rules हमें पता होना ज़रुरी है। लेकिन उनमें कुछ नियम ऐसे भी है जो बहुत जरूरी है और बदलते भी नही सफर के लिए इन नियमों का हमे पता होना जरूरी है वरना सह यात्रियों से झगड़ा होना तय है और कानूनी पेच में भी फस सकते है। तो चलिए Indian Railway की उन नियमों को Step by step जानते है।

रेलवे बर्थ सीट के लिए नियम : Rules for berth seat in Indian Railways

हम हमेशा लंबी यात्रा में आरामदायक यात्रा के लिए Berth Ticket Reservation करवाते है। क्योंकि आराम से सो कर जाने के बाद आगले दिन आराम ना करना पडे! किंतु सफर के लिए हम अकेले निकले है और Sleeper coach में अंजान सहयात्रियों के साथ सफर कर रहे है तो अलग-अलग स्टेशनों पर चढने उतरने वाले यात्री रेलवे के नियम पता ना होने कारण हमे परेशान कर सकते है। खास कर झुंड मे आने वाले यात्री। ऐसे समय मे अगर नियम हमे पक्के पता हो तो 100 लोग मिलकर भी कुछ नहीं बिगाड़ सकते।

लोअर बर्थ नियम : Railways lower berth Rules in Hindi

अगर आपको लोअर बर्थ सीट मिली है तो आप दिन में पैर पसार कर सो नहीं सकते आप को मिडिल और अप्पर सीट वाले को नीचे बैठने के लिए जगह देना पड़ेगा।
आप को खिड़की वाली जगह का लाभ लेने का पुरा अधिकार है
आप को रात्रि 10 बजे से सुबह के 6 बजे तक मिडिल बर्थ और अप्पर बर्थ वाले को आपकी सीट पर बैठने देना होगा। उस दौरान रात 10 बजने के पहले मिडल क्लास वाले को कोई अधिकार नहीं अपनी सीट को को खड़ा करे।
और सुबह 6 बजते ही आप उसे जगाकर सीट फोल्ड करके नीचे बैठने के लिए कह सकते है।
लोअर बर्थ का और एक नियम जो IRCTC पालण करता है। वह यह सीट 60 साल के उपर  पुरूष, 45 के उपर महिला और गर्भवती स्त्री इनके लिए हि आरक्षण देते समय प्राथमिकता दियी जाती है।
लोअर बर्थ के आवेदन मे दो से ज्यादा Senior citizens या एक वरिष्ट और दो प्रौढ होने की स्थिती में रेलवे की तरफ से Confirm lower berth के लिए विचार नहीं किया जाता।

मिडिल बर्थ नियम : Indian Railways middle berth rules Hindi

मिडिल बर्थ की सीट मीली है तो रात 10 बजने से पहले आप को उस सीट को खडी करने का कोई अधिकार नहीं।
आप को लोअर सीट पर सुबह 6 बजे से रात 10 बजे तक बैठने का पुरा अधिकार है।
साथ ही जब आप सो रहे हो तो आप के जूते, चप्पल, चादर या किसी भी वस्तु द्वारा निचे वाले व्याक्ति को तकलीफ़ ना हो इसका खयाल रखना होगा यही नियम आप के उपर यानी अप्पर बर्थ वाले को भी लागू होता है।

अप्पर बर्थ सीट के लिए नियम : Indian Railways upper berth rules Hindi

अप्पर बर्थ वालों के लिए कुछ खास नियम नहीं है। लेकिन वह सुबह 6 बजे से रात 10 बजने तक लोअर बर्थ वाले की सीट पर बैठ सकते है।
दिव्यांग और गर्भवती महिलाएं आरक्षण फार्म में अपनी जानकारी भरकर इस सीट को टाल सकते है। रेलवे ने उनके लिए लोअर सीट को प्राथमिकता दियी है।

Indian Railway में TTE की जिम्मेदारी और यात्री का अधिकार क्या है?

टी.टी.इ  की जिम्मेदारी और यात्री के अधिकार कुछ इस प्रकार है।

  • TTE का अर्थ होता है ट्रेन टिकट एग्जामिनर (Train ticket examiner) इनका का काम केवल टिकट चेक करना ही नहीं बल्कि निम्नलिखित बहुत से काम की जिम्मेदारी उनकी होती है जिसे करने के लिए वह यात्री और ट्रेन के प्रति प्रतिबद्ध है।
  • आपकी ट्रेन चुक जाने के बाद अगले दो स्टेशन या फिर अगला एक घंटा बीत जाने तक (दोनो में से जो पहले हो) TTE आपकी सीट किसी दूसरे Passenger को नहीं दे सकते। मतलब आप  अगले दो स्टेशन तक दूसरे वाहन से जाकर ट्रेन पकड़ने की कोशिश कर सकते है।
  • TTE को आपकी टिकट रात 10 बजे से लेकर सुबह 6 बजे तक आप का टिकट चेक करने का अधिकार नहीं है। वह आपको नींद से नहीं जगा सकते।
  • लेकिन 10 बजे के बाद ट्रेन मे चढने वाले यात्रियों के लिए यह नियम लागू नहीं होता उन्हे जब भी TTE टिकट मांगने पर दिखाना होगा।
  • आप को TTE से कोई शिकायत है तो उसके पास शिकायत पुस्तीका मांग कर आप शिकायत दर्ज कर सकते हो।
  • TTE आप को शिकायत पुस्तीका नहीं देने पर आप कीसी भी स्टेशन के स्टेशन मास्टर के पास अपनी शिकायत दर्ज कर सकते है।
  • TTE का काम केवल टिकट चेक करना नहीं होता बल्कि रेल में साफ सफाई और स्वच्छत: का ध्यान रखने की जिम्मेदारी भी होती है।
  • TTE को बस कंडक्टर की तरह समय अनुसार ट्रेन के दरवाज़े बंद करना और चालू कराने की जिम्मेदारी भी होती है।
  • Train compartment में लाइट और पंखे के में कोई खराबी है तो आप बेशक TTE से शिकायत कर सकते है। उसे मेकैनिक द्वारा ठीक करवाने की भी जिम्मेदारी उनकी होती है।
  • ट्रेन में टॉयलेट गंदी हो तो साफ करवाना, पानी खत्म हो तो आगले स्टेशन पर पानी भरवाना यह भी काम TTE के ज़िम्मे होते है।
  • यदि किसी सीट पर अकेली महिला सफर कर रही है और उसे कोई आपत्ती है तो उसे दूसरी महिला के बाजू मे सीट दिलवाना या उसके बाजू मे दूसरी महिला को बिठाना TTE का काम होता है।
  • TTE के अतिरिक्त RPF और GRP के जवान आदि किसी को आपका टिकट चेक करने का अधिकार नहीं है।

Irctc ticket booking Rules : रेलवे टिकट बुकिंग नियम

IRCTC अर्थात इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज़्म कॉर्पोरेशन के टिकट बुकिंग नियम COVID-19 के कुछ बदलाव आयें है।
टिकट बुकिंग के लिए जा रहे हो तो रूकिये! साथ मे अपना पैन कार्ड, आधार कार्ड या पासपोर्ट लेकर जाये। क्योंकि IRCTC ने अब (Ticket brokers) टिकट दलालों को रोकने के लिए नियमों मे बदलाव किये है।
Irctc website की मदद द्वारा IRCTC Acount से पहले ऑनलाइन केवल 6 टिकट बुक किये जा सकते थे इसलिए 6 से ज्यादा लोग होने पर असुविधा होती थी लेकिन अब रेलवे ने नियम मे परिवर्तन कर के टिकट की संख्या लिमिट को 12 तक सुनिश्चित कर दिया है।
आप को ऑनलाइन द्वारा Seat availability in train देखने के लिए कोई निर्बंध नहीं है।
टिकट बुक कराते समय अपना मोबाइल नंबर भी देना अनिवार्य हो गया है। रेल के समय में परिवर्तन या उसका कैंसिल होना जैसी सुचनायें यात्री तक नहीं पहुँच पा रही थी इसलिए यह नियम बनाया है।
Indian Railway के ऑनलाइन आरक्षण टिकट बुकिंग के लिए अब यात्री को अपना मोबाइल नंबर और ईमेल पता सत्यापित (Email id verification) करना जरूरी कर दिया गया है। किंतु नियमित पारंपारीकता से टिकट खरीदने वालों को इस प्रक्रिया से छूट है।
रेल का टिकट हस्तांतरित नही किया जा सकता मतलब किसी अन्य व्यक्ति के नाम से बुक किया गया टिकट लेकर आप यात्रा नहीं कर सकते। ऐसा करना दंडनीय अपराध है।
टिकट पर नाम लिखे व्यक्ति के साथ खून का रिश्ता हो तो परिवार का कोई अन्य व्यक्ति यात्रा कर सकता है किंतु उसे पहले टिकट पर अपना नाम बदलवाना होगा चाहे वह ऑनलाइन बुक किया हो या टिकट काउंटर पर से हो। स्त्री की जगह स्त्री और पुरूष की जगह पुरूष ही यात्रा कर सकता है।
Education institute के छात्र भी टिकट हस्तांतरीत कर के सफर कर सकते है किंतु 48 घंटे पहले इन्स्ट्युट के प्रमुख द्वारा Letterhead पर आवेदन देना होगा।
कभी कम समय के कारण टिकट बुक करना नही हो सके तो भी आप ट्रेन में सफर कर सकते है लेकिन ट्रेन में जाते हि TTE के पास जाकर सबसे पहले टिकट बनवाना होगा। लेकिन याद रहे सीट खाली नहीं है और आप बैठते है तो पेनाल्टी लगेगी।
Irctc train booking के लिए ई-टिकट बुक करने वालों के लिए खुश खबर आपको 24 घंटे पहले Boarding station बदलने का हक है लेकिन केवल एक ही बार बदल सकते है। इसलिए पहले सुनिश्चित करे की आप को कहाँ से ट्रेन पकडनी है।
साधारण डिब्बे मे सफर के दौरान आप TTE को आरक्षण के पैसे देकर सीट बुक करवा सकते हो और आगे का सफर आरक्षित सीट पर कर सकते हो। लेकिन यह काम आरक्षित डिब्बे मे बैठकर नहीं करना चाहिए। क्योंकि सीट खाली नहीं होने पर आप को पेनाल्टी लग सकती है।

रेलवे के पैसे वापसी नियम : Irctc refund rules in Hindi

दोस्तों Irctc online booking कैंसिल करने के बाद IRCTC Ticket refund rules हमारे टिकट कैंसिलेशन नियम से जुड़ा है इसलिए उसे जानना बेहतर होगा। क्योंकि कोविड-19 जैसे कुछ मामलों मे रेल विभाग हमारी टिकट स्वयं कैंसिल कर रिफंड करता है।

Irctc ticket cancellation rules in Hindi

तत्काल टिकट कैंसिल नही हो सकता इसलिए रिफंड नही होता लेकिन ट्रेन 3 घंटे से ज्यादा लेट है और आप ने यात्रा रद्द की हो या फिर ट्रेन का रूट बदला गया है और उस रूट पर आपका स्टेशन नहीं है तो आप रिफंड के हकदार है।
अगर आप Waiting list में है और ट्रेन की यात्री अनुसूची जारी होने के 30 मिनट पहले Ticket cancellation करते है तो आपके 60 रूपये चार्ज कटेंगे और AC सीट के लिए 65 रूपये
आपके पास कन्फॉर्म सीट का टिकट है तो टिकट कैंसील करवाना महंगा पड सकता है क्योंकि Relwy tiket समय सीमा के हिसाब से Refund देता है।

  • 2s के लिए 60 रूपये
  • SL के लिए 120 रूपये
  • CC के लिए 180 रूपये
  • 3A के लिए 180 रूपये
  • 2A के लिए 200 रूपये
  • 1A के लिए 240 रूपये
  • EC के लिए 240 रूपये

Sleeper classके लिए कोई GST चार्ज नही कटेगा लेकिन AC सीट के सभी Ticket Booking के लिए कटौती राशी के साथ जीएसटी का चार्ज काट कर रिफंड मिलेगा।
शेड्यूल्ड डिपार्चर टाइम के 48 घंटे पहले कैंसील नहीं कराते तो वहां से 12 घंटे पहले तक टिकट राशि के 25% चार्ज कटेगा।
और उस 12 घंटे के पहले भी नहीं कैंसील करते तो वहां से Schedule departure टाइम के 4 घंटे पहले तक टिकट राशि का आधा हिस्सा यानी 50% चार्ज कटेगा।
Confirm ticket को यात्री अनुसूची जारी करने के 4 घंटे पहले आप टिकट कैंसील नही करा पाते तो आप को बाद में कोई भी रिफंड नहीं मिलेगा।
आपका टिकट AC कोच का है और आप को स्लीपर कोच में सफर करना पड रहा है या AC खराब है तो आप रिफंड क्लेम कर सकते है।
Tatkal ticket booking वालों के लिए कोई रिफंड नहीं मिलता, क्यों की Tatkal ticket booking time ही ट्रेन छूटने के कुछ घंटे पहले शुरू होता है।
IRCTC का कोई भी रिफंड 2 से 4 दिन या 4 से 6 दिन तक मिलता है। कहीं बार इस प्रक्रिया में 10 दिन तक का समय लग सकता है।
तो ये थे Train Ticket Refund के कुछ सामान्य नियम अब आगे रेलवे के कुछ ज़रुरी कानून के बारे में जानेंगे।

Indian-Railway-Act-1989-Hindi

भारतीय रेलवे कानून : Indian Railways Act

सुरक्षित रेल यात्रा के लिए आप को नीचे लिखे गए सभी कानून के बारे में पता होना ज़रुरी है।
रेलवे एक्ट धारा 155(A) अनुसार महिला स्पेशल, दिव्यांग या किसी भी रिजर्व रखे कोच मे यात्रा करने पर तीन महीने जेल और 500 रूपये जुर्माना हो सकता है
रेलवे एक्ट धारा 144 अनुसार रेलवे परिसर मे अनाधिकृत सामान बेचने पर 1000 से 2000 रूपये तक का जुर्माना या एक वर्ष की जेल या फिर दोनो हो सकते है।
रेलवे एक्ट धारा 156 अनुसार रेल के दरवाज़े या छत पर बैठ कर सफर करने वालों को तीन महीने की जेल और 500 रूपये जुर्माना का प्रावधान है।
रेलवे एक्ट धारा 166 (B) के अनुसार रेलवे स्टेशन परिसर में या रेल पर पोस्टर चिपकाने पर 6 महीने की जेल या 500 रूपये जुर्माना या दोनो हो सकते है।
रेलवे एक्ट धारा 143 अनुसार रेल टिकट की दलाली या अवैध तरीके से टिकट बेचने पर तीन साल की जेल की सजा या 10000 रूपये जुर्माना या फिर दोनो हो सकता है।
रेलवे एक्ट धारा 147 अनुसार पुल का उपयोग ना करके गलत तरीके से पटरी पार करने वालों को छह महीने की जेल और 1000 रूपये जुर्माना या दोनो सजा देने का प्रावधान है।
रेलवे एक्ट धारा 145 (B) के तहत रेलवे स्टेशन पर कचरा फैलाना, उपद्रव करना महंगा पड़ेगा। पहली बार पकड़ने पर 100 रूपये जुर्माना दूसरी बार या ज्यादा बार पकड़ने पर 250 रूपये जुर्माना और एक महीने की जेल की सजा हो सकती है।

प्लेटफॉर्म के नियम : Indian Railway Platform rules Hindi

प्लेटफॉर्म टिकट ना खरीदने पर और पकड़े जाने पर 250 रूपये की पेनाल्टी लगती है और साथ में स्टेशन पर खड़ी ट्रेन तथा आने वाली ट्रेन के आखिरी स्टॉप तक की किराया भी वसुला जाता है। फ़ाइन ना देने पर एक महीने की जेल यात्रा का प्रावधान है।
प्लैटफॉर्म टिकट के साथ आप ट्रेन में सफर कर सकते है लेकिन मुल किराये के साथ आप को 250 रूपये पेनल्टी भी देना होगा।
प्लैटफॉर्म टिकट का फायदा यह है की टिकट ना निकालने पर आपका किराया उसी स्टेशन के हिसाब से वसुला जाएगा चाहे ट्रेन कितना भी दूरी से आ रही हो।

ट्रेन चुक जाये तो क्या करे?

ट्रेन चुक जाने पर हम अक्सर बे-चैन हो जाते है। टिकट के पैसे को लेकर चिंतित होते है। लेकिन अब घबराने की कोई बात नहीं।
TDR अर्थात टिकट डिपॉजिट रिसीप्ट भरकर आप अपनी किराया राशि के 50% रिफंड ले सकते है। इसके लिए जहां से टिकट बुक कराया है वहीं पर जाना होगा।

 रेलवे टिकट खो जाने पर क्या करे?

बहुत बार हडबडी में हमारा ट्रेन का टिकट खो जाका है। इस स्थिती में हम बहुत परेशान होते है। लेकिन अब घबराये नहीं TTE को 50 रूपये पेनल्टी देकर अपना टिकट दोबारा बनवा सकते हो।
अब सबकुछ डिजिटल हो गया है तो मोबाइल SMS या इ-टिकट के स्क्रीनशॉट के साथ पहचान पत्र दिखाने से भी काम चल जाता है। लेकिन TTE प्रिंटेड टिकट की मांग करे तो दिखाना जरूरी है।

ट्रेन रोकने संबंधी नियम

कभी-कभी अचानक ट्रेन रोकने की जरूरत पड जाती है। इस समय हमको ट्रेन रोकने के नियमों का पता होना बहुत जरूरी है। वरना जुर्माने के साथ बड़ी सजा भी हो सकती है।
Indian-railway-chain-pulling-hindi

ट्रेन की चैन खींचने के नियम : Train chain pulling rules Hindi

  • ट्रेन मे आग लगने पर
  • ट्रेन में डकैती या झपटमारी होने पर
  • ट्रेन मे चढने के लिए दिव्यांग या बुजुर्ग को वक्त लगने पर
  • अगर कोई बुजुर्ग या छोटा बच्चा स्टेशन पर छुट जाने पर
  • ट्रेन की बोगी मे किसी की तबियत बिगड़े या हार्ट अटैक आने पर
  • ट्रेन से कोई गिर जाने पर

चैन खींचकर ट्रेन रोकने के लिए उचित कारण ना होने पर रेल धारा-141 के अनुसार 12 महीने की जेल या 1000 रूपये जुर्माना या दोनों भी हो सकता है।
ट्रेन सफर करने से पहले आप इन सभी नियमों को एक बार फिर आवश्य पढ ले। और एक बात जरूरी नही की Hindi Hindi की इस पोस्ट में लिखे यही नियम हमेशा के लिए लागू हो। समय अनुसार IRCTC द्वारा इसमे जरूरी परिवर्तन भी किये जा सकते है।
आशा करता हुँ आप को लगभग जरूरी सभी नियमों को एक पोस्ट में उपलब्ध कराने वाला Hindi Option का यह Indian Railway Travel rules Hindi (2022) लेख आप को ज़रूर पसंद आया होगा। कमेंट बॉक्स में अपनी राय लिख कर हमारा उत्साह बढाये। लेख को अंत तक पढने के लिए दिल से धन्यवाद!

यह भी पढ़िए :

रेलवे सफर के लिए विशेष सावधानीयां कौन सी है?

Leave a Reply

Balram Bomanwad

मैं बलराम बोमनवाड आप को प्रणाम करता हूँ। मुझे ख़ुशी है की आप ने आप की खोज से संबंधित सामग्री ढूंढ़ने के लिए मेरी वेबसाइट का चयन किया है। मुझे आशा है की आप बिलकुल निराश नहीं होंगे आप के प्रश्न और समस्या का समाधान करना ही मेरे इस वेबसाइट का उद्देश्य है। और मुझे भरोसा है की आप अपनी खोज के लिए बार-बार मेरे साइट पर आएंगे। अपनी अनमोल राय कमेंट बॉक्स में लिखे। आप का दिल से धन्यवाद !
View All Articles
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: