Electric vehicle खरीदे या नहीं? (Updet advice 2022) in Hindi

Electric vehicle मतलब इलेक्ट्रिक वाहन क्या है? उसके फायदे क्या है? उसके नुकसान कौन-कौनसे है? हमे उसे खरीदना चाहिए या नहीं? इन सभी प्रश्नों के जवाब यहाँ मिलेंगे।

Electric-vehicles-advantages-and-disadvantages-hindi

Electric vehicle क्या है?

दोस्तों अपडेट जमाने में पुराने वाहनों की जगह अब Electric vehicle ने लेना शुरू किया है। इसलिए हमारे लिए यह जानना जरूरी हो गया है की इलेक्ट्रिक वाहन क्या है? उसके प्रकार कोनसे है? फायदे-नुकसान कौन-कौनसे है। हमे उसे खरीदना चाहिए या नहीं? इन सभी प्रश्नों पर इस लेख में विस्तार से चर्चा करेंगे।

वर्तमान समय Electric cars या इलेक्ट्रिक वाहन आधुकनिकता का वह जुगाड है जो किसी भी बाहरी उर्जा स्त्रोत से इलेक्ट्रिक मोटर द्वारा चलाया जाता है। बिजली का उपयोग करके उसे बैटरी में भरकर या अन्य तरीकों से गाड़ियों को चलाया जाता है।

19 वी सदी के मध्य मे ही इस तकनीक का निर्माण हुआ है, किंतु भारत के कमजोर Infrastructure की वजह से हमारे देश मे इस तकनीक के बने वाहन आने में देरी हो गयी है। यह तकनीक महंगी ज़रूर है लेकिन बढती तेल की किमतों के कारण उपयोग मे फायदे वाली भी है।

इस तकनीक मे विद्युत  उपयोग करने के तरीकों से Electric vehicle अलग-अलग प्रकार बन गये है। जिसे हम नीचे देखेंगे।

इलेक्ट्रिक वाहन के प्रकार कितने है? : Types of electric vehicle In Hindi

विद्युत उर्जा उपयोग के तरीकों से इलेक्ट्रिक वाहन प्रमुख तीन प्रकार हैं।

  • पहला: बैटरी इलेक्ट्रिक वाहन
  • दूसरा : प्लग इन हाइब्रिड इलेक्ट्रिक वाहन
  • तीसरा: हाइब्रिड इलेक्ट्रिक वाहन

Types-of-electric-vehicle-hindi

बैटरी इलेक्ट्रिक वाहन – Battery electric vehicle

बैटरी इलेक्ट्रिक वाहन को शॉर्ट में BEV कहते है। इस प्रकार में किसी भी गैसोलीन इंजन का उपयोग नहीं किया जाता इसलिए यह एक परिपूर्ण Electric vehicle है। इस वाहन को चलाने के लिए इलेक्ट्रिक मोटर के लिए रिचार्जेबल बैटरी का उपयोग किया जाता है।

बैटरी खत्म होने पर उसे विद्युत प्लग दोबारा चार्ज करके फिर से उपयोग कर सकते है। इस तकनीक से कोई भी ध्वनि प्रदूषण या वायु प्रदूषण नही होता।  इस तकनीक को आजतक बाइक, स्कूटर, Electric motorcycle, ट्रक, ट्रेन आदि में उपयोग किया गया है।

प्लग इन हाइब्रिड इलेक्ट्रिक वाहन – Plug in hybrid electric vehicle

इस श्रेणी के  वाहन मे दो मोड मे काम करते है। एक पुरी तरह बैटरी पर निर्भर होता है जो इलेक्ट्रिक मोटर को बैटरी द्वारा पावर मिलता है और दूसरा हाइब्रिड मोड होता है जो गैसोलीन या डीजल इंजन जो बिजली के पावर के साथ मिलकर काम करता है।

चालक जब चाहे दोनो मे से किसी एक मोड का उपयोग कर सकता है।  कार, रेलवे, स्कूटर, बस और सैन्य वाहन के लिए इस तकनिक का उपयोग होता है। इस तकनीक से बने Hybrid cars आदि वाहनो की कीमत बहुत ज्यादा है।

हाइब्रिड इलेक्ट्रिक वाहन – Hybrid electric vehicle

यह इलेक्ट्रिक वाहन का प्रकार भी बैटरी और गैसोलिन से काम करता है लेकिन इसमे प्लग इन वाले तकनीक की तरह बैटरी को बाहरी स्त्रोत से चार्ज करने की आवश्यकता नही है। इसकी पावरफुल इलेक्ट्रिक मोटर को सप्लाय देने वाली बैटरी को वाहन की ब्रेक सिस्टम द्वारा चार्ज किया जाता है, Regenerative Braking कहा जाता है। चार्ज करने के झंझट से मुक्ती मिलती है इसलिए यह वाहन औरं से महंगे आते है। अब इलेक्ट्रिक वाहन के फायदे क्या-क्या है इसके बारे में जानेंगे।

इलेक्ट्रिक वाहन का फायदा क्या है? Advantage of Electric vehicle in Hindi

इलेक्ट्रिक वाहन वाहन चालकों के लिए ड्रायव्हिंग का एक अनोखा अनुभव प्रदान करते है। नये-नये अपडेट के साथ बहुत सारी सुख सुविधा अपने साथ लेकर वह मार्केट में उतर रहे है। ऐसे में हमे पता होना चाहिए की कल अगर हम कोई इलेक्ट्रिक वाहन लेने का प्लान बना रहे है तो उससे हमें कौन से फायदे होने वाले है? आइए जानते हैं।

पर्यावरण संरक्षण – Environment protection

प्रदूषण मुक्त पर्यावरण विश्व की प्राथमिक जरूरत बन चुका है। और प्रदूषण फैलाने में वाहनों से उत्सर्जित कार्बन डाय ऑक्साइड की अहम भूमिका है। ऐसे मे Electric vehicle एक वरदान के रूप मेंं सामने आ रहे है। इनके आने से सायलेंसर से धुआं उडाती गाडियों से छुटकारा मिलेगा। और प्रदूषण के कारण ग्लोबल वार्मिंग से दुनिया का विनाश रोकने मे कुछ हद तक मदद मिलेगी।

ध्वनि प्रदूषण से मुक्ती – Free from noise pollution

बड़े शहरों मे लोग आजकल बड़े पैमाने में ध्वनि प्रदूषण का सामना कर रहे है। जिसकी वजह से उनके जीवन में तनाव, टेंशन महसूस होता है। कुछ लोग तो डिप्रेशन के शिकार बन बैठे है। इलेक्ट्रीक वाहन में इंजन ना होने कारण वाहनों का कर्णकश आवाज नहीं होगा। परिणामस्वरूप मनुष्य के स्वास्थ्य पर बुरा असर पडना बंद हो जाएगा। जैसे बहरा पण आना, हार्ट अटैक आना, गर्भाशय में बच्चों पर परिणाम होना बंद होगा।

संचालन सुख – Driving pleasure

वर्तमान इंजन वाले वाहनों को चलाने के लिए बहुत मेहनत करनी पड़ती है, हार्ड गेअर सिस्टम को हैंडल करना तो बहुत ही मेहनत का काम होता है। उपर से गेअर सिस्टम या ब्रेक सिस्टम के खराब होने पर दुर्घटनाओं की संभावना भी रहती है। लेकिन Electric vehicle में आधुनिक तकनीक के कारण इन सब से काफी हद तक छुटकारा मिलता है।

कम मेंटेनेंस – Low maintenance

डीजेल, पेट्रोल इंजन वाले वाहनों को रखरखाव में बहुत ख़र्चा आता है। ऑइलिंग, ग्रिसींग, सर्विसिंग तो उनका हमेशा का काम है। इलेक्ट्रिक वाहन इलेक्ट्रिक मोटर से चलते है उनको बहुत कम खर्चे में मेंटेन कर सकते है। इसके अलावा इंजन वाले वाहन लंबी रेस के बाद बहुत गरम होते है और ठंडा होने के लिए समय लगता है। लेकिन इलेक्ट्रीक वाहन बहुत कम गरम होते है और जल्दी ठंडे भी होते है।

बिज़नेस के अवसर – Business opportunities

इलेक्ट्रिक वाहनों की बढती लोकप्रियता से एक बात साफ है की आने वाले समय में लोगों के पास अब यही वाहन होंगे। लोगों के वाहन जब पुराने हो रहे है तो वह नये वाहन की जगह इस तकनीक से बने वाहन को ही खरीदने में दिलचस्पी दिखा रहे है।

इसलिए इलेक्ट्रिक वाहन और उससे जुडे उद्योग यानी स्पेअर पार्ट, रिपेयरिंग आदी के बिज़नेस के लिए सुवर्ण अवसर है। Tesla Electric की अनेक गाड़ियाँ अब बाज़ार में मिल रही है तो उसके उत्पादन ने रोज़गार का अवसर तो लोगों को मिला ही होगा।

सब्सिडी का लाभ – Benefit of subsidy

Electric vehicle दूसरे वाहनों के मुकाबले थोडे महंगे है। इसलिए सरकार अब इन वाहनों की खासियत देखकर लोगों को खरीदने के लिए प्रोत्साहित करने हेतु सब्सिडी दे रही है। खास करके दिल्ली जैसी प्रदूषण नगरी में दिल्ली सरकार Electric cars जैसे वाहनों को खरीदने के लिए सब्सिडी दे रही है। बस वाहन नगद में खरीदना जरूरी है। जनता को भी इस अवसर का लाभ उठाना चाहिए।

प्राकृतिक संसाधनों की बचत होगी – Saving natural resources

बढती लोक संख्या के कारण वाहनों मे भी बढ़त हो रही है जिसके कारण पेट्रोल, डीजेल जैसे प्राकृतिक संसाधन खत्म होने की कगार पर है। जिस दिन इनका मिलना मुश्किल हो जाएगा चारो ओर अहाकार मचेगा। ऐसे मे इलेक्ट्रिक वाहन का उपयोग करने से इन संसाधनों में भारी मात्रा में बचत होगी। तथा इनकी किमतों पर भी नियंत्रण लगाना सरकार के लिए आसान होगा।

पार्किंग शुल्क से छुटकारा – Get rid of parking fees

ईंधन वाहनों के मुकाबले बिजली पर चलने वाले वाहनों के पार्किंग शुल्क मे भारी कमी देखी गयी है। कुछ जगह पर तो एकदम फ्री भी है। इसका कारण यह है की पार्किंग की जगह पर अब बैटरी चार्जिंग पॉइंट बन रहे है। कोई भी वाहन चालक को इससे अच्छा मौका नहीं मिलता, गाडी पार्क भी होगी और चार्ज भी होगी। बस वहां केवल चार्जिंग शुल्क देना होगा।

खर्चे की बचत – Cost savings

पेट्रोल, डीजल से ज्यादा औरेज बिजली से चलने वाले इलेक्ट्रिक वाहन देते है इसलिए बिजली का खर्चा भी तेल के मुकाबले कम आता है। परिणामस्वरूप यातायात सस्ती हो जाती है। इसका असर बढती महँगाई को कम करने के लिए भी हो सकता है।

अपडेट की भरपूर गुंजाईश – Plenty of updates

जब मामला इलैक्ट्रिक और इलेक्ट्रॉनिक से जुड़ा होता है तो उसमें एक से बढ़कर एक संशोधन के अवसर होते है। जैसे मोबाईल की बैटरी पहले दो घंटे तक चार्ज करनी पड़ती थी अब वही Fast charging system से 30 मिनट में हो जाती है।

नये संशोधन में तो Wireless charging का भी फिचर निकला है। तो इलैक्ट्रिक गाड़ियों में भी नये अपडेट के बाद सुधारना की बहुत सारी गुंजाईश है।

इलैक्ट्रिक वाहन के नुकसान कौन से है? : Disadvantages of Electric vehicle in Hindi

इलैक्ट्रिक वाहन के हमने बहुत सारे फायदे देखे है तो अब नुकसान की भी बात करना जरूरी है। क्योंकि मामला सीधे हमारे जेब से जुड़ा है। जब तक हमे किसी चीज के नुकसान के बारे मे नही पता चलता हम सही गलत का निर्णय नहीं वे सकते। तो आइए जानते है इलैक्ट्रिक वाहन के नुकसान क्या है?

कम ताक़तवर सिस्टम – Low power systems

वर्तमान इलैक्ट्रिक वाहन की यह सबसे बड़ी कमज़ोरी है। ईंधन वाले इंजन के मुकाबले मोटर की शक्ति की तकनीक कमजोर पड जाती है। गाड़ियों में भारी लोड भरने पर रनिंग क्षमता घट जाती है।  और बैटरीयों को बार-बार चार्ज भी करना पड़ता है।

महंगी उपलब्धता – Expensive availability

उपयोगकर्ता कम होने के कारण Electric vehicle का उत्पादन भी बहुत कम है। और अर्थशास्त्र के नियम अनुसार जिसकी मांग कम होती है वह चीज महंगी हो जाती है। महंगी होने कारण केवल अमीर वर्ग के लोग ही इसे ख़रीद पाते है।

चार्जिंग को अधिक समय लगता है। – Charging takes longer

वाहन की बैटरी को बार-बार चार्जिंग करना पड़ता है और वर्तमान सुविधा में चार्जिंग समय अधिक लगता है। इंधन वाली गाड़ियों में 5 से 10 मिनट में Tank full करवा सकते है किंतु बैटरी को चार्ज करने के लिए वाहन के हिसाब से 2 से 3 घंटे लगते है। और यह बात सिरदर्द बन जाती है। व्यक्ति को ही आर्जंट जाना हो तो वाहन हो कर भी बैटरी खत्म होने के बाद मुश्किल में पड जाते है।

धीमी गती चलना – Slow motion

इलैक्ट्रिक वाहन ईंधन वाहन के मुकाबले गतीमान नहीं होते जो दूरी वो 1 घंटे में पुरी करते है उसके लिए इसे उसके लिए इन्हे 2 घंटे भी लग सकते है। और दूसरी समस्या यह है की जितना दूरी ईंधन वाहन एक  बार ईंधन भर कर तय कर सकते है उतना बैटरी पर चलने वाले वाहन से नहीं कर सकते। कम अंतर मे हि कभी भी बैटरी खत्म हो सकती है।

ईंधन उत्पादक देश में भुखमरी

अगर सभी देश Electric vehicle का उत्पादन और उपयोग शुरू कर ले तो ईंधन उत्पादन देशों के बेहाल हो जाएंगे। उनकी संपूर्ण अर्थव्यवस्था ही बर्बाद हो जाएगी परिणामस्वरूप वहां के लोग भूख से मरने लगेंगे।

चार्जिंग स्टेशन की कमी – Lack of charging station

वर्तमान समय में Electric vehicle ज्यादा प्रचलित नहीं है उसके उपयोग कर्ता बहुत ही कम है, इसलिए पेट्रोल पंप की तरह जगह-जगह पर Charging point भी नहीं है। और घर पर चार्ज करने के लिए High Voltage Power Supply चाहिए परंतु हमेशा चार्जींग घर पर आकर ही खत्म हो ऐसा तो संभव नहीं है। एक रिजर्व बैटरी रखेंगे तो भी लंबे सफर मे समस्या तो बनी रहेगी ही, इसलिए हर जगह चार्जींग स्टेशन चाहिए।

 

Electric-vehicle-charging-stations-hindi

Electric vehicle खरीदना चाहिए या नही?

Electric vehicle की लाभ-हानि के बारे मे आप ने उपर जानकारी प्राप्त की है लेकिन फिर भी आप सही निर्णय नहीं ले पा रहे है की इलेक्ट्रिक वाहन खरीदे या नही? तो इस पर भी चर्चा होना जरूरी है।

इलैक्ट्रिक वाहन एक आधुनिक आविष्कार है जो पुराने इंजन सिस्टम की कमियों को भारी मात्रा में भरपाई करता है। Electric vehicle का सबसे बड़ा लाभ मनुष्य सृष्टि को प्रदूषण से बचाने का है। और जबतक हम इस दिशा मे अपनी जिम्मेदारी को नही समझेंगे वाहन का महत्व भी समझ नही आएगा।

दूसरी बाद एक बार ख़र्चा कर लो तो बार-बार महंगे ईंधन के खर्चे से मुक्ती मिलती है। जब तक हम नहीं खरीदेंगे इस तकनीक को प्रोग्रेस नही मिलेगी और भविष्य में हमे नये अपडेट भी देखने को मिलेंगे। इसलिए उज्ज्वल भविष्य के लिए कुछ नुकसान को अनदेखी करके हमे इन वाहनों को स्वीकार करना चाहिए।

इसलिए हमने भी इस लेख में नुकसान के विषय पर ज्यादा ज़ोर नहीं दिया है। क्योंकि देखा जाए तो फायदे के मुकाबले नुकसान बहुत कम है और भविष्य के अपडेट के बाद वह और कम होने की गारंटी भी है।

अंत में मैं यही सलाह दूंगा की इलेक्ट्रिक वाहन खरीदना फायदेमंद है इसे जरूर खरीदना चहिए। केवल आप को सलाह नहीं दे रहा बल्कि मैं भी खरीद रहा हूँ। क्यों की अब भारतीय टाटा कम्पनी के Tata nexon electric vehicle जैसे स्वदेशी वाहन भी उपलब्ध हो रहे है।

दोस्तों आशा करता हूँ की Electric vehicle Fayda Aur Nuksan Kya Hai? इस पोस्ट से आप को कुछ ना कुछ ज्ञान ज़रूर मिला होगा। Hindi Option की यह पोस्ट आपको कैसे लगी कमेंट बॉक्स में ज़रूर बताना आपकी कोई राय है तो भी ज़रूर बताना। पोस्ट को आप ने अंत तक ध्यान से पढ़ा है इसलिए आप का दिल से धन्यवाद!

Leave a Reply

Balram Bomanwad

मैं बलराम बोमनवाड आप को प्रणाम करता हूँ। मुझे ख़ुशी है की आप ने आप की खोज से संबंधित सामग्री ढूंढ़ने के लिए मेरी वेबसाइट का चयन किया है। मुझे आशा है की आप बिलकुल निराश नहीं होंगे आप के प्रश्न और समस्या का समाधान करना ही मेरे इस वेबसाइट का उद्देश्य है। और मुझे भरोसा है की आप अपनी खोज के लिए बार-बार मेरे साइट पर आएंगे। अपनी अनमोल राय कमेंट बॉक्स में लिखे। आप का दिल से धन्यवाद !
View All Articles
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: